उल्टी आना या जी मिचलाने का अचूक घरेलु और आयुर्वेदिक इलाज

उल्टी आना या जी मिचलाने का अचूक घरेलु और आयुर्वेदिक इलाज


खाने-पीने में गड़बड़ी, पेट में कीड़े होना, खांसी, जहरीले पदार्थों का सेवन करना तथा शराब पीना आदि कारणों से उल्टी आती है। यह कोई बड़ा रोग नहीं है बल्कि पेट की खराबी का ही एक कारण है। जब कभी कोई अनावश्यक पदार्थ पेट में अधिक एकत्रित हो जाता है तो उस अनावश्यक पदार्थ को निकालने के लिए पेट प्रतिक्रिया करती है जिससे पेट में एकत्रित चीजे उल्टी के द्वारा बाहर निकल जाता है। कभी-कभी अधिक उल्टी होने से रोगी के शरीर में पानी की कमी होने के साथ अधिक कमजोरी आ जाती है।

उल्टी दो रूपों में आती है- 
पहला वह जिसमें उल्टी के साथ खाया-पिया पदार्थ उसी रूप में निकल जाता है और दूसरा वह जिसमें अधपचा खाना उल्टी के साथ निकलता है। उल्टी की दूसरी अवस्था में डकारें आती हैं, जी मिचलाता है, सिर में बहुत तेज दर्द होने लगता है और बेहोशी के दौर पड़ने लगते हैं। रोगी को ऐसा महसूस होता है कि अंदर से आंतों में जलन पैदा होकर सब कुछ बाहर आने के लिए पलटने लगा है। आंख, कान और नाक में भी दर्द होने लगता है। उल्टी के समय व्यक्ति को लगता है कि वह अब नहीं बचेगा। इलाज के लिए रोगी को उल्टी बंद करने की औषधि तुरंत ही देनी चाहिए। घबराहट अधिक होने पर धनिये का पानी पिलाना चाहिए और धनिये का लेप सिर पर लगाना चाहिए। इससे बेचैनी दूर हो जाती है। प्याज का रस तथा धनिये का रस पानी में मिलाकर देने से उल्टी रुक जाती है।

लक्षणों के आधार पर उल्टी को 5 भागों में बांटा गया है- 1. वातज 2. कफज 3. पित्तज 4. त्रिदोषज और 5. आगन्तुज।

1. गैस के कारण होने वाली उल्टी :
इसमें रोगी कम मात्रा में कडुवी, झागवाली और पानी के जैसी उल्टी करता है। इसके साथ ही रोगी में अन्य लक्षण भी होते हैं, जैसे- सिर का दर्द, सीने में जलन, नाभि में जलन, खांसी और आवाज का खराब होना आदि।

2. पित्त की गर्मी के कारण होने वाली उल्टी : 
इस रोग की हालत में पीले, हरे रंग की उल्टी आती है जिसका स्वाद बहुत ज्यादा गंदा होता है और रोगी को जलन महसूस होती है। इसके साथ-साथ रोगी का सिर घूमने लगता है, बेहोशी सी छा जाती है और मुंह का स्वाद भी खराब हो जाता है।

3. कफ के कारण होने वाली उल्टी :
इस तरह की हालत में रोगी को अपने आप ही गाढ़ी और सफेद रंग की उल्टी होती है जिसका स्वाद मीठा होता है। इसके साथ ही मुंह में पानी भरना, शरीर का भारी हो जाना, बार-बार नींद आना, जैसे लक्षण पैदा होते है।

4. त्रिदोष (वात, पित और कफ) के कारण होने वाली उल्टी : 
इस रोग में रोगी गाढ़ी, नीले रंग, स्वाद में नमकीन या खट्टी और खून वाली उल्टी करता है। इसके साथ ही दूसरे लक्षण भी होते है जैसे- पेट में तेज दर्द, भूख न लगना, जलन महसूस होना, सांस लेने में परेशानी और बेहोशी छा जाना।

5. आगन्तुज छर्दि : 
कोई ऐसी जगह जाने का मन न करें या बदबू के कारण, गर्भावस्था, ऐसा भोजन जो अच्छा न लगता हो या पेट में कीड़े होने के कारण पैदा हुए रोग को आगन्तुज छर्दि कहते हैं।

परहेज

पानी को उबालकर उसे ठंडा करके इसमें नींबू निचोड़कर रोगी को पिलाना चाहिए।
अगर रोगी को भूख न लग रही हो तो मूंग की दाल की खिचड़ी बनाकर दही या लस्सी के साथ खिलाना चाहिए।
भोजन को पेट भर न खाकर थोड़ी-थोड़ी देर के बाद थोड़ा-थोड़ा भोजन करते रहना चाहिए।
गर्भावस्था के दौरान उल्टी होने पर सूखा आलूबुखारा चूसना चाहिए।
मौसमी का रस निकालकर इसमें 1 चुटकी सेंधानमक मिला लें। यह रस थोड़ी-थोड़ी देर बाद 1-1 चम्मच रोगी को पिलाते रहें।

नींबू को काटकर उसके ऊपर थोड़ी सी कालीमिर्च और सेंधानमक का चूर्ण चूसने के लिए रोगी को दें।
गर्मी के मौसम में हल्के गर्म पानी से रोगी को नहाना चाहिए।

Iklan Atas Artikel

Iklan Tengah Artikel 1

Iklan Tengah Artikel 2

Iklan Bawah Artikel