loading...

यूरिन इंफ़ेक्शन के आयुर्वेदिक इलाज, urine infection ka ayurvedic ilaj

urine infection ka ayurvedic ilaj
urine infection ka ayurvedic ilaj

यूरिन इंफ़ेक्शन का इलाज घरेलू उपाय किया जाए तो समस्या जड़ से ख़त्म हो सकती है।

urine infection kyun hota hai

यूरिन इंफ़ेक्शन का एक कारण है, बैक्टीरिया का जमाव। ज़्यादा पानी पीते रहने से बैक्टीरिया ब्लैडर में जमा नहीं होते हैं और इंफ़ेक्शन से बचाव होता है। दर्द, जलन और सूजन जैसी समस्या से निजात मिल जाती है।

urine infection ka desi ilaj in hindi

सेब का सिरका यूटीआई की समस्या के इलाज और गुप्तांग संबंधित अनेक समस्याओं के उपचार में काफ़ी मददगार है। 1 गिलास पानी में 2 से 3 चम्मच सेब का सिरका और आधा चम्मच शहद मिलाकर पिएं। इस उपाय को दिन में 3 बार करने से यूटीआई से निजात मिलेगी।

ayurvedic remedies for urine infection in female

खट्टे फलों में सिट्रिक एसिड होता है जो कि बैक्टीरिया को ख़त्म करता है। पेशाब में इंफ़ेक्शन होने पर खट्टे फलों का सेवन करें और उनका रस पिएं। नींबू, संतरा और आंवला खट्टे फलों के बढ़िया उदाहरण हैं।

urine infection tips in hindi

नींबू पानी पीना यूटीआई की समस्या में बहुत लाभकारी होता है।
खट्टे फलों में विटामिन सी भी होता है जो एक प्रकार का एंटी ऑक्सीडेंट है। वाइटमिन सी बॉडी से फ्री रेडिकल्स को बाहर करके इम्यून सिस्टम को स्ट्रांग बनाता है। जिससे शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ जाती है।

urine infection ka ayurvedic treatment in hindi

बेकिंग सोडा हमारी बॉडी में एसिड का बैलेंस बनाए रखने में काफ़ी कारगर है। यूरिन ट्रैक्ट इंफ़ेक्शन के इलाज में 1 गिलास पानी में आधा चम्मच बेकिंग सोडा मिलाकर दिन में 2 बार पीना चाहिए।
4. क्रैनबेरी जूस मूत्र में संक्रमण को रोकने में अच्छा उपाय है। अगर आप इसे यूं ही न पी पाएं तो सेब के जूस में मिलाकर पी सकते हैं।

peshab me infection ke ayurvedic ilaj

यूरिन में इंफ़ेक्शन का उपचार अन्नानास से भी किया जा सकता है। अन्नानास गुप्तांग  के बैक्टीरिया को ख़त्म करने में असरदार है। इससे आप ऐसे ही खा सकते हैं और जूस भी पी सकते हैं।

urine infection me kya khana chahiye

लस्सी या छाछ यूटीआई की समस्या होने पर ज़रूर पीनी चाहिए। ये ब्लैडर में पनप रहे बैक्टीरिया को बाहर कर देती है। इसके अलावा पेशाब में होने वाली जलन से भी राहत देती है।यूटीआई के समय दही का प्रयोग कर सकते हैं, दही खाने से शरीर में हानिकारक बैक्टीरिया नहीं पनपते हैं।
ब्लैडर में इंफ़ेक्शन होने पर प्याज का सेवन भी उत्तम है, प्याज बॉडी से टॉक्सिन और फ्री रेडिकल्स को बाहर निकालने में मदद करता है।

loading...
Previous Post
Next Post

post written by:

0 comments: